अभी तो लंबा सफर तय करना है – चांदनी सिंह


उनकी पहचान यह है कि वह यूट्यूब की चांदनी हैं। उनके भोजपूरी एलबम जारी होते ही फैन्स की भीड़ लग जाती हैयूट्यूब पर देखने के लिये। एक दिन में दस लाख लोग इस चांदनी के अलबम को देखते हैं और पसंद भी खुब करते हैं। डोली में गोली मारदेब, चोंए चोंए के बाद चांदनी सिंह का नया एलबम खोद देव ढोढ़ी पिचकारी से भी सफलता का नया इतिहास रच रहा है। उत्तर प्रदेश के जौनपुर की रहने वाली चांदनी सिंह इन दिनों निर्माता निर्देशक अरविन्द चौैबे की फिल्म मैं नागिन तू सपेरा में अरविन्द अकेला कल्लू के अपोजिट नायिका भी हैं। इस फिल्म को लेकर चांदनी काफी उत्साहित हैं। इस इंटरव्यू के दौरान चांदनी सिंह ने खुलकर अपना अनुभव शेयर किया जो आपको काफी दिलचस्प लगेगा।

अपने बारे में थोड़ा बताईये कहां से शुरुआत हुयी थी?
मैं उत्तर प्रदेश के जौनपुर की रहने वाली हूं मगर मेरे पिताजी सोनभद्र के रेणुकूट में हिंडालको में सर्विस करते थे सो पढ़ाई लिखाई सब वहीं पर हुयी।

एलबम में एक्टींग की शुरुआत कैसे हुयी?
मैं पटना गयी थी किसी काम से । वहां एक शुटिंग देखने का मौका मिला। ये अलबम आदिशक्ती म्युजिक कंपनी की तरफ से बनाया जारहा था। वहीं पर मुझसे आदि शक्ती के मनोज जी ने पुछा कि क्या आप एक्टिंग करना चाहेंगी। मैं कुछ बोलती उसके पहले ही सहेलियों ने कह दिया हां। बस आगयी एलबम की दुनिया में। ये अलबम था खेशारीलाल यादव जी के साथ डोली मेंगोलीमार देब। ये अलबम हिट हुआ तो उसके बाद चोंए चोए अलबम किया। यह भी सुपरहीट होे गया तो लगातार आफर आने लगे। लोगों ने प्यार किया तो मुझे फिल्मों के आफर भी आने लगे।

यानि पहली फिल्म मैं नागिन तू सपेरा आपको अलबम की कामयाबी देखकर मिली?
बिल्कुल, खेशारी जी के साथ चोंए चोंए और कल्लू जी के साथ धनिया आवतानी अलबम सुुपर डुपर हीट हो गया तो निर्देशक अरविन्द चौबे जी ने मुझसे मुलाकात की और मैं नागिन तु सपेरा फिल्म में एक्टींग का आफर किया। साफ साफ कहुं तो मुझे स्ट्रगल बिल्कुल नहीं करना पड़ा।

एक साल के अंदर इतनी कामयाबी क्या कहेंगी?
मेरा एक अलबम कल्लू जी के साथ था धनिया आवतानी जो एक दिन में १० लाख लोगों ने देखा और एक रिकार्ड बन गया। आज भी लोग मुझे मेरे अलबमों की वजह से जानते हैं। खुशी होती है मगर अभी तो लंबा सफर तय करना है।

अरविन्द चौबे जी ने एक से बढ़कर एक कामयाब फिल्म बनायी है उनके साथ काम करने का अनुभव?
बहुत ही अच्छे और सुलझे हुये निर्देशक हैं अरविन्द चौबे सर, उन्होने कई सुपरस्टारों के साथ काम किया है। उनके साथ काम करके काफी कुछ सीखने को मिलता है।

कभी डांट भी पड़ी उनकी?
नहीं(हंसते हुये) , मैने उनसे पहले ही निवेदन किया था कि सर डाटिंयेगा मत। प्रेम से समझा दिजियेगा। और वे तब से गलती होने पर हंसने लगते हैं । बहुत ही अच्छा लग रहा है। वे बहुत ही प्रेम से समझाते हैं। मुझे बिल्कुल नहीं लग रहा है कि मेरी ये पहली फिल्म है।

जब आप अलबम कर रही थीं तो घर वालों ने विरोध कितना किया?
शुरु में विरोध किया गया था मगर अब सब खुश हैं। मेरे घर वालों से ज्यादा मेरे रिश्तेदारों और पड़ोेसियों को प्राबलम था मगर मैने ऐसा कुछ नहीं किया जिससे उनका नाम खराब हो। मेरे दोस्तों ने पसंद किया, फिर पड़ोसी और रिश्तेदार भी खुश हैं। मेरी मम्मी ने मुझे खुब प्रोत्साहित किया।

अलबमों से फिल्मों में आने वाली लड़कियां बहुत कम आयी हैं? क्या वजह मानती हैं?
मैं तो लकली आगयी इस लाईन में। उनका टार्गेट रहता है एलबम करना। मैं एलबम करते करते फिल्मों में आगयी। मेरा कोई एम नहीं था एलबम करना।

भोजपुरी फिल्मों में जितने सुपरस्टार हैं सबके साथ नायिकाओं की जोड़ी है। आप किसके साथ जोड़ी बनाना चाहेंगी?
मैं सबके साथ काम करना चाहती हूं। मैं अच्छा काम करना चाहती हूं और सबके साथ ट्यूनिंग बनाना चाहती हूं।

भोजपुरी में मैने देखा है कि अभिनेत्रियां अपने फिटनेश को लेकर सजग नहीं रहती हैं आप काफी स्लीम हैं। क्या कहेंगी फिटनेस मंत्रा पर?
मैं भी जब पहला अलबम कर रही थी डोली में गोली मार देब तो काफी मोटी थी । मेरे हिसाब से ७५ किलो तक मेरा वजन पहुंच गया था मगर धीरे धीरे जब मेरी दोस्तों ने सर्पोट किया और उत्साह बढ़ाया तो मैने बाड़ी मेंटेन करना शुरु कर दिया। तीन महीने में मैने अपना वजन कम किया और उसके बाद चोंए चोंए अलबम किया तो मेरा वजन काफी कम हो गया था। अब तो रेगुलर फिटनेस पर ध्यान देती हूं।

आगे कौन कौन सी फिल्में आप कर रही हैं?
आफर तो कई फिल्मों के आये मगर अभी साईन नहीं की हूं। पुरा ध्यान अभी सिर्फ मैं नागिन तू सपेरा की तरफ ही है।

आपके फैन्स आपका फेस दिव्याभारती जी की तरह का मानते हैं। क्या कहेंगी?
सच कहुूं तो कई लोगों ने मुझसे ये बात कही है और दिव्या भारती जी मेरी पसंदीदा एक्ट्रेश भी रही हैं।


(शशिकांत सिंह)

Share Button

Leave a Reply